Munisuvratnath Aarti | मुनिसुव्रतनाथ भगवान की आरती

Munisuvratnath Aarti | मुनिसुव्रतनाथ भगवान की आरती – भगवान श्री मुनिसुव्रतनाथ जी जैन धर्म के 20वें तीर्थंकर थे. इस पोस्ट में हम इनकी आराधना और स्तुति के लिए आरती का प्रकाशन कर रहें हैं.

भगवान मुनिसुव्रतनाथ जी को भगवान श्री रामचंद्र जी का समकालीन माना जाता है. श्री मुनिसुव्रतनाथ जी का जन्म राजगीर में हुआ था. इन्होने सम्मेद शिखर पर मोक्ष को प्राप्त किया था.

श्री मुनिसुव्रतनाथ जी के माता का नाम पद्मावती और पिता का नाम सुमित्र था.

Munisuvratnath Aarti | मुनिसुव्रतनाथ भगवान की आरती

|| श्री मुनिसुव्रतनाथ भगवान की आरती ||

ॐ जय मुनिसुव्रत स्वामी, प्रभु जय मुनिसुव्रत स्वामी
भक्ति भाव से प्रणमूँ तुमको, जय अंतरयामी||

ॐ जय मुनिसुव्रत स्वामी…….

राजगृही में जन्म लिया प्रभु, आनंद भयो भारी
सुर-नर-मुनि गुण गायें तिहारी, आरती कर थारी||

ॐ जय मुनिसुव्रत स्वामी…….

पिता तुम्हारे सुमित्र राजा, श्यामा के जाया
श्यामवर्ण मूरत है तेरी, पैठन में अतिशय दर्शाया||

ॐ जय मुनिसुव्रत स्वामी…….

जो ध्यावे सुख पावे सब ही, सब संकट दूर करें
मनवांछित फल पावें सब ही, जो प्रभु चरण धरें||

ॐ जय मुनिसुव्रत स्वामी…….

जन्म-मरण दुःख हरो प्रभु, सब पाप मिटे मेरे
ऐसी कृपा करो प्रभु हम पर, दास रहें तेरे||

ॐ जय मुनिसुव्रत स्वामी…….

निज-गुण ज्ञान का दीपक, ले आरती करूँ थारी
सम्यक ज्ञान दो सबको, जय त्रिभुवन के स्वामी||

ॐ जय मुनिसुव्रत स्वामी…….

ॐ जय मुनिसुव्रत स्वामी, प्रभु जय मुनिसुव्रत स्वामी
भक्ति भाव से प्रणमूँ, जय अंतरयामी||

ॐ जय मुनिसुव्रत स्वामी…….

भगवान श्री मुनिसुव्रतनाथ जी की आराधना के लिए Munisuvrat Nath Chalisa – मुनिसुव्रत नाथ चालीसा का पाठ सम्पूर्ण भक्तिपूर्वक करें.

विडियो

श्री मुनिसुव्रतनाथ भगवान की आरती (Munisuvrat Nath Aarti) यूट्यूब विडियो देखने के लिए निचे प्ले बटन दबाएँ.

मुनिसुव्रत नाथ भगवान की आरती

अपने सुझाव और सलाह हमें निचे कमेंट बॉक्स में लिखें.

कुछ अन्य प्रकाशन –

24 Tirthankar ki Aarti | चौबीस तीर्थंकर की आरती

बाहुबली भगवान की आरती : Bahubali Bhagwan Ki Aarti

Panch Parmeshthi Ki Aarti | पंच परमेष्ठी की आरती

Gautam Swami Ji Ki Aarti गौतम स्वामी जी की आरती

Shri Ghantakarna Mahavir Ji Aarti श्री घंटाकर्ण महावीर जी आरती

नाकोड़ा भैरव जी की आरती Nakoda Bhairav Aarti

Mangal Divo | मंगल दीवो (Mangal Deepak | मंगल दीपक)

Mahavir Aarti – ॐ जय सन्मति देवा

Leave a Comment